पद्मनाभस्वामी मंदिर भारत के केरल राज्य के तिरुअनंतपुरम में स्थित भगवान विष्णु का प्रसिद्ध हिंदू मंदिर है इस मंदिर के गर्भगृह में भगवान विष्णु की विशाल मूर्ति है जो शेषनाग पर शयन मुद्रा में विराजमान है मान्यता है कि इस मंदिर को छठवीं शताब्दी में त्रावणकोर के राजाओं ने बनवाया था और इस बात का जिक्र नौवीं शताब्दी में लिखे हुए कुछ ग्रंथों में आता है इस मंदिर में छह तहखाने हैं कहा जाता है कि त्रावणकोर के राजाओं ने अपने बेशकीमती खदानों को मंदिर की दीवारों पर तहखाना में कहीं छुपा कर रखा था 2011 पुलिस अधिकारी खतरनाक राय फलों के साथ इस मंदिर के बाहर तैनात थे और सर्वोच्च न्यायालय के आदेश पर मंदिर के ट्रस्टी सहित अधिकारियों की टीम ने मंदिर के नीचे बने इन खुफिया तक खानों के दरवाजे खोल दिए जो सदियों से बंद थे हर दरवाजे के पीछे बंद कमरे में उन्होंने और हीरो के आभूषण और मूर्तियां मिलती गई और वह आगे बढ़ते गए मगर जब वह आखिरी चेंबर यानी चर्बी के पास पहुंचे तो उसे खोलने में वह कामयाब नहीं हो पाए यह तीन दरवाजे थे पहला दरवाजा लोहे से बना था दूसरा मजबूत दरवाजा लकड़ी से बना था और फिर आखिरी दरवाजा लोहे का बना था जो सबसे मजबूत था इस दरवाजे पर तो कोई भी नहीं था ना कोई कुंडी थी इस दरवाजे को खोलने की सारी कोशिशें नाकामयाब रही इसे खोलने गए अधिकारियों के अनुसार इस दरवाजे को कोई ताला नहीं था और वह इस दरवाजे को छोड़ना नहीं चाहते थे इसलिए वह वहीं से वापस है लेकिन उनके वापस लौटने के पीछे का कारण कुछ और ही था इस दरवाजे पर सांपों के जो चित्र बने हैं वह चेतावनी दे रहे थे कि इस दरवाजे को खोला गया तो अंजाम बहुत बुरा होगा

 

वैसा हुआ भी था 17 जुलाई 2011 को पहले 3 कक्षा को खोलने के 3 हफ्ते बाद ही सुंदर राजन(फोटो में दिखाई गये )शख्स जिसने इन दरवाजों को खुलवाने की याचिका दाखिल की थी पहले बीमार पड़े और फिर उनकी मौत हो गई अगले ही महीने मंदिर के भक्तों की एक संस्था ने यह चेतावनी जारी कर दी किसी ने उस आखिरी कक्ष को खोलने की कोशिश भी की तो उसका अंजाम बहुत बुरा होगा कहा जाता है कि इस आखिरी दरवाजे को एक मंत्र से बंद किया गया है जिसे अपना कहा जाता है और यह मंत्र क्या है यह कोई नहीं जानता और कोई यह भी नहीं जानता कि उसे खाने में क्या रखा है लेकिन उस कमरे के अंदर जो कुछ भी है वह एक अनोखी मंत्र से सुरक्षित है कहा जाता है कि अगर कोई भी उस कमरे में जाने की कोशिश करता है तो उसके साथ कुछ बुरा जरूर होता है और उसकी जान भी जा सकती है और ऐसा कुछ लोगों के साथ हुआ भी इसीलिए उस तहखाने को खोलने का निर्णय सुप्रीम कोर्ट को बदलना पड़ा पहले 5 दिनों में मिले खजाने की कुल कीमत थी करीब दो लाख करोड़ 28 किलोग्राम का एक ऐसा बैग भी मिला जिसमें अलग-अलग देशों के राष्ट्रीय मौजूद थे इसके बाद केरल हाईकोर्ट के दो जजों समेत आठ लोगों का पैनल बनाया गया जिन्होंने मंदिर के तहखाने से मिले खजाने की गिनती की जिसमें 3 साल का समय लगा था

 कहा जाता है कि जमीन के अंदर होता है उस पर सर्पों का अधिपत्य होता है इसलिए मंत्रोचार करके 2018 में फिर से उस दरवाजे को खोलने की कोशिश शुरू हुई थी वैदिक साधना करने वाले कई साधकों ने इसे खोलने की कोशिश की लेकिन इसे कोई खोल नहीं सका तो उसके बाद यह दावा किया गया कि अगर कोई तपस्वी भगवान विष्णु का परम भक्त होगा वह इस दरवाजे के पास गुड मंत्र पढ़े तो दरवाजा खुल सकता है 26 दिसंबर 2004 को केरल तमिलनाडु और अंडमान निकोबार की चपेट में आए थे लेकिन तिरुअनंतपुरम के पद्मनाभ स्वामी मंदिर को समंदर की लहरें भी नहीं पाई थी और वह भी तब जब यह शहर समंदर के किनारे पर है और समंदर से मंदिर की दूरी महज 3 किलोमीटर है परिवार की मानें तो इस दरवाजे खुलते ही महा प्रलय आ सकता है इसीलिए इस परिवार सहित इस शहर के लोग उस तहखाने को खोलने के विरोध में है

यह भी कहा जाता है कि कुछ तहखाने के अंदर बेहद खतरनाक हथियार रखे हुए हैं महाभारत जैसे धर्म ग्रंथ में भी इस बात की चर्चा है कि देवताओं के पास एक से एक विनाशकारी प्राचीन हथियार थे महाभारत में ऐसे युद्ध की चर्चा है जो आज के साइंस फिक्शन फिल्मों में दिखाई देती है उसमें ऐसे हथियारों के इस्तेमाल की बात की गई है जिनके बारे में सुना था एक ब्रह्मास्त्र पूरे ब्रह्मांड को खत्म करने की शक्ति रखता थाऐसे ऐसे हथियारों के इस्तेमाल की बात की गई है जिनके बारे में सुना तक नहीं गया था एक ब्रह्मास्त्र अकेला पूरे ब्रह्मांड को खत्म करने की शक्ति रखता था ऐसे हथियारों को नष्ट नहीं किया जा सकता था इसीलिए ऐसा कहा जाता है कि इंसानियत की भलाई के लिए उन हथियारों को ऐसे ही मंदिरों के तहखाने में छुपा दिया था तो क्या ऐसा हो सकता है कि इस मंदिर के चेंबर बी के अंदर वह हथियार रखे हो जिनकी चर्चा महाभारत जैसे धर्म ग्रंथों में की गई है या फिर इस दरवाजे के पीछे कोई ऐसा बेशकीमती खजाना होगा जो पूरे भारत की गरीबी मिटा सकता है इस हकीकत से पर्दा तभी उठेगा जब यह दरवाजा खुलेगा आपको क्या लगता है 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *