भविष्य को लेकर हमेशा से चर्चा होती रही है आज से सैकड़ों साल पहले फ्रांसीसी भविष्यवक्ता माइकल नास्त्रेदमस ने दुनिया के बारे में कुछ ऐसी ही भविष्यवाणी की थी जो बाद में सच साबित हो गई।  इसलिए आज पूरी दुनिया के लोग नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी पर यकीन करते हैं। भारत को लेकर भी उन्होंने कई भविष्यवाणियां की थी जो बाद में सच साबित हो गई। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में कहीं उनकी कई बातें सच हो गई आज मैं आपको यही बताने वाला हूं भारत के वर्तमान और भविष्य के बारे में नास्त्रेदमस ने क्या लिखा था इसके लिए हम आप को 400 साल पीछे लेकर चलते हैं यानी साल 1555  में जब नास्त्रेदमस ने अपनी किताब द प्रोफिसीज में यह लिखा था कि तीनों और महासागर से घीरे देश में एक महान शक्तिशाली व्यक्ति का जन्म होगा और उस देश का नाम हिंद महासागर से लिया जाएगा आप समझ ही गए होंगे कि मैं हिंदुस्तान की बात कर रहा हूं और नास्त्रेदमस ने जिस महापुरुष की बातें की थी उनका नाम है नरेंद्र दामोदरदास मोदी 

400 साल पहले ही नास्त्रेदमस ने वह सब कुछ देख लिया था और आज के वर्तमान और भविष्य की जानकारी पन्नों में दर्ज कर दी थी।  नास्त्रेदमस ने बताया था 21वीं सदी में पूर्व की तरफ से एसिया में एक महान नेता का जन्म होगा,जिसे पहले तो लोग बिल्कुल भी पसंद नहीं करेंगे लेकिन अपने काम के कारण जल्द ही वह लोगों का चहेता बन जाएगा और आने वाले 20 साल तक वह अपने देश को नई ऊंचाइयों तक ले जाएगा 

साल 1555 में नास्त्रेदमस की किताब सामने आई तो उसमें भविष्य की घटनाओं के बारे में बताया गया था। साल 2014 में उनकी भविष्यवाणी भी सच साबित हुई ,जब गुजरात के छोटे से गांव वडनगर में रहने वाले नरेंद्र दामोदरदास मोदी देश के प्रधानमंत्री बने।  नास्त्रेदमस ने लिखा था कि देश की कमान एक ऐसे प्रभावशाली व्यक्तित्व के हाथों में होगी जो हिंदुस्तान को दुनिया के मानचित्र पर एक अलग पहचान दिलाएगा उस व्यक्ति की आलोचना होगी,उसे कड़े विरोध का सामना करना पड़ेगा,उसके खिलाफ कई षड्यंत्र भी होंगे लेकिन अपनी कुशलता और दूर दृष्टि से वह तमाम बाधाओं को पार करने में सक्षम होगा। 

नास्त्रेदमस ने लिखा था कि वह अधेड़ उम्र का व्यक्ति 20 साल तक सत्ता पर आसीन रहेगा इसका मतलब है कि साल 2034 तक देश की बागडोर नरेंद्र मोदी के हाथों में होगी। नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी आगे कहती हैं कि वह अधिक उम्र का नेता भारत ही नहीं दुनिया के कई देशों में स्वर्ण युग लेकर आएगा और पाकिस्तान बांग्लादेश श्रीलंका नेपाल चीन में उसकी कीर्ति से लेगी और उसे ग्लोबल लीडर के रूप में स्वीकार किया जाएगा। 

 

Yuwa Awaj  इस आर्टिकल के माध्यम से कोई भी पोलिटिकल मंतव्य नहीं दे रहा यह सिर्फ जानकारी के लिए हे