गरुण पुराण के अनुसार गरुण पुराण कुछ ऐसे स्थानों का वर्णन करता है जहां खाने से आपका चरित्र और मन दूषित होता है।भारतीय घरों में भोजन का विशेष महत्व है। अक्सर लोग एकदूसरे के घर खाना खाने जाते हैं, यहां तक कि एकदूसरे को त्योहार पर आमंत्रित भी करते हैं।

आपने लोगों को यह कहते सुना होगा कि जैसे हम खाना खाते हैं, हमारी नैतिकता उस दिशा में बदल जाती है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि उपरोक्त कथन का क्या अर्थ है, यही कारण है कि भोजन की शुद्धता को इतना अधिक पसंद किया जाता है?

आज की पीढ़ी को शायद विश्वास हो, लेकिन गरुण पुराण में कुछ ऐसे स्थानों का वर्णन किया गया है जहां खाने का अर्थ है अपने चरित्र और मन को दूषित करना और उनके हाथ का बना खाना पूरी तरह से दूषित होता है, लेकिन साथ ही जो व्यक्ति उस भोजन को स्वीकार करता है, उसका दिमाग भी संक्रमण में चला जाता है। आइए जानते हैं कि हिंदू शास्त्रों में किनकिन जगहों पर और किसके हाथ से भोजन वर्जित बताया हे 

चरित्रहीन स्त्री के घर में.. चरित्रहीन स्त्री का अर्थ है अपनी मर्जी से अनैतिक कार्य करने वाली स्त्री। गरुण पुराण के अनुसार जो व्यक्ति ऐसी स्त्री के हाथ का बना हुआ भोजन खाता है, वह उसके किए हुए पापों को अपने  सिर उठा लेता है।

ब्याज के पैसे वाले आजकल ब्याज पर पैसा देना और लेना बहुत आम हो गया है, लेकिन गरुण पुराण के अनुसार, ब्याज पर पैसा देना और इसे ब्याज सहित वापस लेना गरीब लोगों की लाचारी का लाभ उठाना है और साथ ही उस व्यक्ति के घर खाने वाला भी उसके पाप का भागीदार बन जाता है।

गंभीर रूप से बीमार व्यक्ति.. शास्त्रों के अनुसार यदि कोई व्यक्ति किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित है या किसी लाइलाज बीमारी से पीड़ित है, तो आप भी उसके घर में भोजन करते समय उस बीमारी के शिकार हो जाते हैं।

क्रोधी व्यक्ति.. क्रोध को सामाजिक और धार्मिक रूप से मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु कहा जाता है। गरुण पुराण में उल्लेख है कि जो व्यक्ति क्रोधी व्यक्ति के घर भोजन करता है उसका मस्तिष्क भी क्रोध की चपेट में आता है। वह अच्छे और बुरे में फर्क करना भी भूल जाता है।

निर्दयी शासक .. लोगों को कभी भी एक क्रूर राजा या शासक के घर नहीं खाना चाहिए जिसने धन एकत्र किया, प्रजा को परेशान किया और प्रताड़ित किया। जो व्यक्ति अपने से कमजोर पर अत्याचार करता है और उनसे पैसे वसूल करता है, उसका घर पूरी तरह से प्रदूषित हो जाता है।

दूसरों को बदनाम करने वाला.. इससे दूसरों को परेशानी होती है यह भी किसी पाप से कम नहीं है। ऐसे लोगों का घर खाना उनके पापों का हिस्सा नहीं होना चाहिए।

ड्रगडीलर के घर पर ड्रग्स को इंसान का सबसे बड़ा दुश्मन माना जा सकता है। जो कोई भी ऐसे पदार्थों का व्यापार करता है वह भी पापी माना जाएगा। पापी के घर कभी किसी को भोजन नहीं करना चाहिए।

दूषित भोजन.. ज्यादातर समय लोग फ्रिज में बासी खाना खाते हैं या खराब भोजन को दूषित मानते हैं, लेकिन हमारे शास्त्रों में दूषित भोजन की परिभाषा दूसरे शब्दों में ही दी गई है, जो शायद अधिक सटीक बैठती है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *