टापू का नाम सुनते ही हम सब यही सोचते हैं कि वहां जाना रोमांच से भरपूर होगा। दुनिया में ऐसे कई आइलैंड हैं जहां साल भर लोग आते-जाते रहते हैं, लेकिन दुनिया में एक ऐसा आइलैंड भी है जहां सिर्फ सांप रहते हैं, जहां इंसानों का आना-जाना प्रतिबंधित है। यह द्वीप को सांप द्वीप कहा जाता है, जिसे “इल्हा दा क्विमादा ग्रांडे” भी कहा जाता है।वैसे तो ब्राजील का यह आइलैंड बेहद खूबसूरत है, लेकिन यह महज 43 हेक्टेयर का एक छोटा सा आइलैंड है। इस द्वीप पर बड़ी संख्या में हरी-भरी चट्टानें मौजूद हैं, जो इसकी सुंदरता को और बढ़ा देती हैं। आइए जानते हैं क्या है

इस आइलैंड की खास बात यह है कि यहां पाए जाने वाले सांप दुनिया में और कहीं नहीं पाए जाते हैं। इस आइलैंड पर दुनिया का सबसे जहरीला सांप भी है। ऐसा कहा जाता है कि इस द्वीप से किसी व्यक्ति का जीवित लौटना लगभग असंभव है। बता दें कि ब्राजील की नौसेना को द्वीप पर जाने की इजाजत है। दरअसल, सांपों की बढ़ती संख्या को देखते हुए यहां लोगों की आवाजाही पर पाबंदी है।

जानकारों की मानें तो स्नेक आइलैंड पर भी सांपों की खतरनाक प्रजातियां जैसे वाइपर, गोल्डन लांसहेड हैं। वाइपर सांपों को उड़ाने में सक्षम होते हैं, इसलिए उन्हें खतरनाक माना जाता है। कहा जाता है कि इस सांप का जहर इतना खतरनाक होता है कि यह इंसानों के खून को सेकंड में जमा देता हे  , जिससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि यहां मौजूद सांप कितना खतरनाक है.

यहां विभिन्न प्रजातियों के 4 लाख से ज्यादा सांप रहते हैं। यहां पाए जाने वाले सांप अत्यंत दुर्लभ हैं। अंतरराष्ट्रीय बाजार में इनकी कीमत लाखों रुपए तक है। इस वजह से कई तस्कर यहां सांप पकड़ने और अंतरराष्ट्रीय बाजार में बेचने के लिए अवैध रूप से आते हैं।जब समुद्र की सतह ने भूमि को ढंकना शुरू किया, तो द्वीप पर सांप फंस गए, जो ब्राजील से जुड़ा था। सांप वर्तमान प्राकृतिक परिस्थितियों के आदी हो गए और धीरे-धीरे सांपों की संख्या में वृद्धि हुई, और फिर लोगों के लिए यहां रहना मुश्किल हो गया, तब से इसे सांप द्वीप कहा जाता है।

स्नेक आइलैंड पर रहने वाले सांप की एक प्रजाति, जिसे गोल्डन लांसहेड के नाम से जाना जाता है,जो  IUCN (इंटरनेशनल यूनियन फॉर कंजर्वेशन एंड नेचर एंड नेचुरल रिसोर्सेज) की रेड लिस्ट में शामिल किया गया है। आपको बता दें कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में इस सांप की कीमत 18 लाख रुपये तक है।द्वीप पर सांपों की उपस्थिति के कारण मनुष्य घुसपैठ नहीं कर पाता है, इसलिए द्वीप जानवरों के लिए सुरक्षित है। इसके साथ ही यह द्वीप प्रकृति के निर्माण के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है।