दिवाली के पर्व को लेकर घर-घर में तैयारियां शुरू हो चुकी हैं. रोशनी के इस पर्व को खुशियों का पर्व भी कहा जाता है. दिवाली पर लक्ष्मी जी की विशेष पूजा की जाती है. लक्ष्मी जी को सुख-समृद्धि की देवी कहा गया है. जीवन में जब लक्ष्मी जी कृपा प्राप्त होती है तो व्यक्ति का जीवन में संपन्नता आती है. लक्ष्मी जी को धन की देवी माना गया है. लेकिन लक्ष्मी पूजन में ये चीजे कभी अर्पित न करे लक्ष्मीजी रूठ सकती हे आपसे

तुलसी

भगवान विष्णु को तुलसी बहुत प्रिय है। तुलसी को हरिवल्लभा भी कहा जाता है। शास्त्रों के अनुसार तुलसी का विवाह विष्णु जी के विग्रह स्वरूप शलिग्राम से हुआ था। जिसके कारण एक तरह से रिश्ते में वह मां लक्ष्मी की सौतन बन गई, इसलिए माना जाता है कि मां लक्ष्मी की पूजा में या उन्हें भोग लगाते समय तुलसी या फिर तुलसी मंजरी का प्रयोग नहीं करना चाहिए। इससे मां लक्ष्मी आपसे रुष्ट हो सकती हैं। जिसके कारण आपको जीवन में धन संबंधी समस्याओं से जूझना पड़ता है। आप भी दिवाली पर ध्यान रखें कि किसी भी प्रकार से मां लक्ष्मी को तुलसी की मंजरी अर्पित न करें।

सफ़ेद रंग

मां लक्ष्मी को सुख-सुहाग और सौभाग्य प्रदान करने वाली देवी कहा गया है। मां लक्ष्मी को हमेशा गुलाबी और लाल आदि शुभ रंगों की चीजें अर्पित करनी चाहिए। इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं, लेकिन भूलकर भी उनकी पूजा में कभी भी सफेद रंग और सफेद वस्त्र नहीं चढ़ाने चाहिए। यह शुभ नहीं माना जाता है।

गणेश पूजन

मां लक्ष्मी की पूजा के साथ भगवान गणेश की वंदना अवश्य करनी चाहिए। गणेश वंदना के बाद लक्ष्मी नारायण की पूजा करनी चाहिए। तभी लक्ष्मी जी की पूजा पूर्ण होती है। गणेश जी की वंदना के बिना लक्ष्मी पूजा सफल नहीं होती है। मां लक्ष्मी की पूर्ण कृपा प्राप्त करने के लिए गणेश पूजन अवश्य करें।