हमारे देश में देवी-देवताओं की पूजा की जाती है, कई अधर्मी लोग उन्हें नकली और नकली और पाखंडी मानते हैं, लेकिन भारत में ऐसे कई मंदिर हैं जहां ये लोग बोल नहीं सकते क्योंकि यह दैवीय शक्ति का स्थान है। कोई विश्वास नहीं कर सकता, क्योंकि जो कोई भी यहां अपनी परेशानियों, बीमारियों को लेकर आता है, वह निश्चित रूप से ठीक हो जाता है और कई अपराधी, नास्तिक को झुकते हुए देखा जा सकता है, आप भी ऐसे शक्तिशाली लोगों को जानते हैं।

1. हनुमानजी का प्रसिद्ध मंदिर दंदरौआ धाम..

पूरे देश में हनुमानजी के कई चमत्कारी मंदिर हैं। उन चमत्कारी मंदिरों में से एक ऐसा भी है जहां के चमत्कार जानकर आप हैरान हो जाएंगे, लेकिन यह बिल्कुल सच है कि मध्य प्रदेश के भिंड जिले में स्थित हनुमान जी का प्रसिद्ध मंदिर डंडरौआ धाम है। यहां हनुमान जी को मंदिर में डॉक्टर के रूप में पूजा जाता है।

ऐसा माना जाता है कि हनुमान स्वयं इस मंदिर में अपने एक भक्त के इलाज के लिए डॉक्टर के रूप में आए थे।ऐसा माना जाता है कि एक साधु शिवकुमार दास को कैंसर था। हनुमानजी उन्हें एक चिकित्सक के रूप में मंदिर में दर्शन दिए। उसने अपने गले में एक विशेष वस्तु डाल दी, जिसके बाद साधु पूरी तरह से ठीक हो गया। आज देश-विदेश से लोग इन गंभीर मंदिरों के इलाज के लिए इस मंदिर में आते हैं और कई लोग बीमारियों से ठीक हो जाते हैं।

विशेष रूप से मंदिर में फोड़े, अल्सर और कैंसर जैसे रोग भी मंदिर के पांच चक्कर लगाने से ठीक हो जाते हैं। डॉ. हनुमान के साथ अच्छे स्वास्थ्य की आशा में यहां लाखों भक्त जुटते हैं

2. चतुरदास जी महाराज मंदिर.. बूटाटीधाम राजस्थान में नागौर से चालीस किलोमीटर दूर अजमेर-नागौर मार्ग पर कुचेरा कस्बे के पास है। जिसे चतुरदास जी महाराज के मंदिर के नाम से जाना जाता है। हर साल हजारों लोग लकवा से ठीक होकर यहां जाते हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि यहां मरीजों के इलाज के लिए कोई डॉक्टर, फिजिशियन या फिजिशियन नहीं है।

बल्कि यहां लकवे के इलाज के लिए चमत्कारी शक्तियों का प्रयोग किया जाता है। कहा जाता है कि लगभग एक वर्ष पूर्व पूर्ण योगी चतुरदास जी अपनी तपस्या से लोगों को रोगों से मुक्ति दिलाते थे। आज भी लकवाग्रस्त लोगों को उनकी समाधि की परिक्रमा करने से राहत मिलती है।नागौर के अलावा देश भर से लोग यहां आते हैं।

वैशाख में हर साल किराए और मांग के महीने में मेला लगता है। पक्षाघात के सफल उपचार के लिए रोगी को लगातार 7 दिनों तक मंदिर का चक्कर लगाना पड़ता है। अनुष्ठान पूरा करने के बाद, रोगी को हवन में भाग लेना होता है। हवन पूर्ण होने के बाद रोगी को कुंड की विभूति अर्पित की जाती है। जिसके बाद उसके सारे रोग अपने आप दूर हो जाते हैं। यह पूरी प्रक्रिया किसी चमत्कार से कम नहीं है।

पहले तो रोगी की बीमारी कम हो जाती है और फिर उसके शरीर के बंद हाथ और पैर अपने आप काम करने लगते हैं। पक्षाघात के कारण बोलने में असमर्थ रोगी भी बोलना शुरू कर देते हैं।मंदिर में आने वाले लोगों को नि:शुल्क आवास और भोजन भी उपलब्ध कराया जाता है। यहां कई लोग इस बीमारी से निजात पा चुके हैं।

भक्त यहां दान करते हैं, जिसका उपयोग मंदिर के विकास के लिए किया जाता है।बाकी पैसे का उपयोग मानव सेवा के लिए किया जाता है ताकि सभी लोग लाभान्वित हो सकें।

मंदिर परिसर के चारों ओर चार दीवारें और द्वार बनाए गए हैं। मंदिर के बाहर से आने वाले यात्रियों के लिए नि:शुल्क बिस्तर, पीने का ठंडा पानी, बर्तन और खाना पकाने के बर्तन, सात दिन के ठहरने के लिए लकड़ी आदि की व्यवस्था है। मंदिर परिसर में स्नान की समुचित व्यवस्था है- यहां सुलभ शौचालय भी बनाया गया है।

मंदिर परिसर में एक बड़ी पानी की टंकी है और पानी को ठंडा करने के लिए विभिन्न स्थानों पर ठंडे पानी की मशीनें लगाई गई हैं। मंदिर परिसर के बाहरी तरफ लगभग 100 दुकानें हैं। रहने की सुविधा, बिस्तर, राशन, बर्तन, लकड़ी आदि के साथ धर्मशालाएं हैं। यात्रियों को सभी आवश्यक चीजें मुफ्त में उपलब्ध कराई जाती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *