कपालेश्वर महादेव मंदिर नासिक शहर के प्रसिद्ध पंचवटी क्षेत्र में गोदावरी तट के पास स्थित है। पुराणों में कहा गया है कि यहां भगवान शिव रहते थे। यह देश का पहला मंदिर है जहां नंदी भगवान शिव के खिलाफ नहीं हैं। यही उसकी विशेषता है। यहां नंदी की गैरमौजूदगी की कहानी बड़ी दिलचस्प है।

एक दिन इन्द्र सभा में ब्रह्मा और शंकर के बीच विवाद हो गया। उस समय ब्रह्मा के पांच मुख थे। चारों मुख वेदों का जाप कर रहे थे और पाँचों मुख निन्दा कर रहे थे। उस निंदा के साथ, भगवान शिव ने उस चेहरे को काट दिया। उसने मुँह फेर लिया। इस घटना के कारण शिवाजी ने ब्रह्मचर्य का पाप किया था। शिव उस पाप से छुटकारा पाने के लिए ब्रह्मांड में घूम रहे थे। लेकिन कोई रास्ता नहीं निकला।

एक दिन जब वे सोमेश्वर में बैठे थे, एक ब्राह्मण के घर के सामने एक गाय और उसका बछड़ा खड़े थे। वह एक ब्राह्मण बछड़े की नाक में रस्सी डालने जा रहा था। बछड़ा विरोध कर रहा था। बछड़ा अपने काम के विरोध में ब्राह्मण को मारना चाहता था। उस समय गाय ने उससे कहा, “ऐसा मत करो, तुम्हें ब्रह्म को मारने का पाप लगेगा।

इसके बाद बछड़े ने उत्तर दिया, “मैं ब्रह्महत्या के पाप से मुक्ति का उपाय जानता हूं।”

यह संवाद सुनकर शिवाजी उत्सुक हो गए। बछड़े ने उस ब्राह्मण को मारा जो उसकी नाक में सींग से रस्सी डालने आया था। ब्राह्मण मर गया। नरसंहार से बछड़ा काला हो गया था। तभी बछड़ा बाहर आया। शिव भी उसके पीछे हो लिए। बछड़ा गोदावरी नदी के राम कुंड में गया। उन्होंने वहीं स्नान किया। स्नान करने से ब्राह्मण का वध मिट गया। बछड़े ने अपना सफेद रंग वापस पा लिया।

बछड़े को नहलाने के बाद भगवान शिव ने भी राम कुंड में स्नान किया। ब्राह्मण को मारने से मुक्त। यह गोदावरी नदी के पास एक पहाड़ी थी। शिव वहां गए। उन्हें वहाँ जाते देख गाय का बछड़ा (नंदी) भी वहाँ आ गया। नंदी के कारण ही शिवाजी ब्रह्मा की हत्या से मुक्त हुए थे। इसलिए उन्होंने नंदी को अपना गुरु मान लिया और उनके सामने बैठने से मना कर दिया। इसलिए इस मंदिर में कोई नंदी नहीं है। कहा जाता है कि यह नंदी गोदावरी के रामकुंड में स्थित है। यह मंदिर बहुत महत्वपूर्ण है। ऐसा माना जाता है कि बार ज्योतिर्लिंग के बाद इस मंदिर का महत्व है।

प्राचीन काल में इस पहाड़ी पर शिव की एक पिंडी थी, लेकिन अब यहां एक विशाल मंदिर है। पेशवा के कार्यकाल में मंदिर का जीर्णोद्धार कराया गया। मंदिर की सीढ़ियों के सामने गोदावरी नदी बहती दिखाई देती है। इसमें प्रसिद्ध राम कुंड है। भगवान राम ने इसी सरोवर में अपने पिता राजा दशरथ को श्रद्धांजलि दी थी। इसके अलावा भी इस परिसर में कई मंदिर हैं।

कपालेश्वर मंदिर के सामने गोदावरी नदी के पार प्राचीन सुंदर नारायण मंदिर है। हरिहर महोत्सव साल में एक बार आयोजित किया जाता है। उस समय कपालेश्वर और सुंदर नारायण दोनों को गोदावरी नदी के पास लाया जाता है, जहां वे एक दूसरे से मिलते हैं। अभिषेक। इसके अलावा महाशिवरात्रि पर कपालेश्वर मंदिर में भी बड़ा उत्सव मनाया जाता है। श्रावण सोमवार को बहुत भीड़ होती है।