त्रिपुरा के खोवई जिले में शनिवार को अवसाद(डिप्रेसन) से पीड़ित एक व्यक्ति ने लोहे की रॉड से हमला कर दिया, जिसमें एक पुलिस निरीक्षक सहित पांच लोगों की मौत हो गई और दो अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए।पुलिस ने बताया कि राजमिस्त्री प्रदीप देवराय अवसाद से पीड़ित था और उसने लोगों से बात करना बंद कर दिया था। शुक्रवार की रात अचानक वह हिंसक हो गया और अपने परिवार पर धारदार हथियार से हमला कर दिया, जिससे उसकी दो बेटियों और बड़े भाई की मौत हो गई. हमले में उसकी पत्नी मीना गंभीर रूप से घायल हो गई, लेकिन देवराय से बचने और छिपने में सफल रही।

अपर पुलिस अधीक्षक राजीव सेनगुप्ता ने बताया कि प्रदीप देबरॉय ने अपनी दो किशोरियों और छोटे भाई पर अचानक हमला कर दिया और सुबह गांव शेवरतली में अपने घर में मौके पर ही उनकी हत्या कर दी. उसने अपनी पत्नी को भी गंभीर रूप से घायल कर दिया, जिसे खोवाई जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

तब देबरॉय ने सड़क पर एक ऑटो-रिक्शा चालक को रोका और उसकी हत्या कर दी और उसके बेटे को गंभीर रूप से घायल कर दिया। दोनों घायलों की हालत नाजुक बताई जा रही है.

सूचना मिलने पर इंस्पेक्टर सत्यजीत मलिक के नेतृत्व में पुलिस टीम मौके पर पहुंची तो देबरॉय ने उस पर हमला कर दिया. सेनगुप्ता ने कहा कि अगरतला सरकारी मेडिकल कॉलेज ले जाते समय अधिकारी ने दम तोड़ दिया।

पुलिस अधीक्षक किरण कुमार ने बताया कि देबरॉय पिछले कुछ दिनों से डिप्रेशन में थे और उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है.

उन्होंने बताया कि गांव में पुलिस की एक टुकड़ी तैनात कर दी गई है।