अनुपमा की कहानी अभी काफी दिलचस्प मोड़ पर चल रही है। पहले देखा गया था कि अनुपमा और वनराज इस बार सचाई की तरफ खड़े हैं। घर में सभी एक साइड चुन रहे हैं वो या तो परितोष को समर्थन दे रहे हैं या फिर वो किंजल का चुन रहे हैं। हालांकि हमेशा की तरह बा, परितोष के लिए समर्थन दिखाएगी। इसी तरह बा ने वनराज का समर्थन किया था, अब वह परितोष का समर्थन करने के लिए तैयार है। इसके अलावा बा, अनुपमा को गलत समय पर विषय उठाने के लिए डांटती हैं।

तोशु को माफ करेगी राखी
अनुपमा में बहुत की उथल-पुथल मची हुई है लेकिन सभी इस मामले को सुलझाना चाहते हैं। ऐसे में राखी, तोशु को माफ करने के लिए तैयार है, उम्मीद है कि वह फिर से गलती नहीं दोहराएगा। बा का कहना है कि ऐसा होता है और गलती केवल पुरुषों से होती है। इसीलिए इससे बचते हुए हमें आगे अच्छा जीवन साथ में बेहतर के लिए जारी रखना चाहिए। अब बा की यही घटिया मानसिकता किंजल को कठोर कदम उठाने के लिए मजबूर करेगी! यह देखना बेहद दिलचस्प होगा कि शो में आगे क्या होता है।

वनराज ने किंजल के लिए अपनाया कड़ा रुख
जैसा कि पहले देखा गया था कि वनराज ने परितोष को उसके गंदे कामों के लिए थप्पड़ जड़ा था। क्योंकि वनराज को अपनी गलती का पछतावा है। इसलिए वनराज जानता है कि उसे क्या करना है और वो तोशु को घर से निकाल देता है। पहले जब वनराज ने यही गलती की थी तो बापूजी ने वनराज को बाहर निकाल दिया था और अनुपमा को उनके साथ रहने के लिए कहा था। बापूजी ने अनुपमा के लिए स्टैंड लिया था और उसके साथ अपना जीवन बनाया था और घर का नाम भी अनुपमा के नाम पर रखा था।

तोशु बनेगा अनुपमा का सबसे बड़ा दुश्मन
इस बार वनराज अपनी बहू किंजल के लिए खड़ा होता है। वो किंजल को अपनी बेटी बुलाता है और परितोष को लात मारकर बाहर कर देता है। पारितोष, किंजल से माफी मांगता है। जब राखी भी तोषू को माफ करने को राजी हो जाती है और किंजल से कहती है कि कोई कठिन फैसला न ले। अब पारितोष इन सबका गुनहगार अनुपमा को मानने लगता है। जाते-जाते वह चिल्लाकर धमकी देगा। वह अनुपमा का नाम चिल्लाकर कहता है, अनुपमा कपाड़िया, मैं आपको कभी माफ नहीं करूंगा।