बीते दिन रुपाली गांगुली स्टारर ‘अनुपमा’ में दिखाया गया कि परितोष सबके पास मैसेज करके कुछ बड़ा करने की धमकी देता है। लेकिन अनुपमा उसे तुरंत भांप लेती है। वहीं वह शराब के नशे में कपाड़िया हाउस पहुंच जाता है और किंजल और अनुज से परी को छीनने लगता है। इतना ही नहीं, वह किंजल को उसके साथ चलने और अपनी जान लेने की धमकी देता है। इन बातों को सुनकर किंजल घबरा जाती है। लेकिन तभी अनुपमा वहां आ जाती है। लेकिन रुपाली गांगुली और गौरव खन्ना के ‘अनुपमा’ में आने वाले ट्विस्ट यहीं खत्म नहीं होते हैं।

पारितोष की धमकियों से अनुपमा डरती नहीं है और कहती है कि तुझे जान लेना होता तो कब का ले चुका होता। तू केवल धमकी दे सकता है और कुछ नहीं। इसके साथ ही अनुपमा निकम्मे बेटे को मर्दानगी का पाठ पढ़ाती है साथ ही उसे कपाड़िया हाउस से निकलने के लिए भी कहती है। लेकिन पारितोष वहां से जाने से मना कर देता है, साथ ही कपाड़िया मेंशन में तोड़-फोड़ करना शुरू कर देता है, जिसपर अनुज का खून खौल उठता है।

पारितोष की बदतमीजियों के आगे अनुज हैरान रह जाता है और वह उसकी गर्दन पकड़कर कहता है कि उसे जो करना है बाहर करे, उसके घर में नहीं। इसके साथ ही अनुज, पारितोष को धमकी देता है कि अगर उसने दोबारा उसके घर में कुछ किया या अनुपमा को कुछ कहा तो वह खुद उसकी जान ले लेगा। वह वनराज को फोन लगाकर बताता है कि उसका निकम्मा बेटा कहीं और नहीं बल्कि उसके घर में ही है।

वनराज कपाड़िया हाउस पहुंचकर पारितोष को ले आता है और बापूजी के सामने फूट-फूटकर रोता है। वह बताता है कि जब किसी और की औलाद नशा करके ऐसा करती थी तो मैं कहता था कि इनके मां-बाप घर से बाहर क्यों नहीं निकाल देते हैं। लेकिन अब समझ आता है कि वे ऐसा क्यों नहीं कर पाते।

रुपाली गांगुली स्टारर ‘अनुपमा’ में आगे दिखाया जाएगा कि अपनी मां को सबक सिखाने के लिए पारितोष छोटी अनु को चोट पहुंचाएगा। लेकिन उसकी धमकियों से अनुपमा नहीं डरेगी और कहेगी, “अपनी हद पार मत कर तोषू, वरना मैं भूल जाऊंगी कि तू मेरा बेटा है।”