‘अनुपमा’ में इन दिनों किंजल और पारितोष का ड्रामा खूब चल रहा है। हमने देखा की वनराज और बा, किंजल से मिलने के लिए कपाड़िया हाउस पहुंचते हैं और उसे अपने साथ चलने के लिए कहते हैं। अनुपमा उसे समझाती है कि वह जो भी फैसला ले, सोच-समझकर ले। हालांकि इस चीज के लिए भी वनराज और बा उसे जमकर ताने मारते हैं। लेकिन ‘अनुपमा’ में आने वाले ट्विस्ट और टर्न्स यहीं नहीं खत्म होते हैं।

वनराज और बा किंजल को बार-बार समझाते हैं कि उसे अपने घर चलना चाहिए और वहां आराम से रहना चाहिए। क्योंकि पारितोष की गलतियों की सजा वह बाकी परिवार को नहीं दे सकती है। लेकिन अनुपमा भी दूसरी ओर समझाती है कि किंजल जो भी फैसला करेगी, वह उसके साथ है। ऐसे में किंजल, बा और वनराज के साथ वापस शाह हाउस लौटने का फैसला कर लेती है।

किंजल शाह हाउस लौट तो आती है, लेकिन पारितोष को माफ नहीं करती है। वह बाकी लोगों से भी कहती है कि यहां पारितोष की पत्नी नहीं बल्कि परी की मां आई है और पारितोष की पत्नी शायद दोबारा आए भी ना। इसके साथ ही किंजल पूरे परिवार से कहती है कि कोई भी उसपर पारितोष को माफ करने का दबाव न डाले। इन सब में बापूजी उसके साथ रहते हैं।

किंजल के शाह हाउस से वापस जाते ही राखी दवे वहां आ जाती है और अनुपमा से सवाल करने लगती है कि उसने किंजल को क्यों जाने दिया। इसके साथ ही राखी दवे ठान लेती है कि अब वह खुद अपनी बेटी की जिंदगी संवारेगी। राखी दवे, अनुपमा से कहती है कि पहले तो वह अपनी बेटी की वजह से चुप थी, लेकिन अब वह खुद सारी चीजें हैंडल करेगी। इस बात को लेकर माना जा रहा है कि राखी दवे शाह हाउस में जाकर तांडव मचाएगी और तोषू को किंजल के पैरों में गिराएगी।