Category: शिवजी

ममलेश्वर महादेव मंदिर:200 ग्राम वजनी गेहूं का दाना,स्वयं पांडवों ने की थी शिवलिंग की स्थापना

क्या आपने कभी 200 ग्राम वजन का गेंहूं का दाना देखा है वो भी महाभारत काल का यानी की 5000 साल पुराना? यदि नहीं तो आप इसे स्वयं अपनी आँखों…

हर १२ साल में इस शिवलिंग पर बिजली गिरती हे जाने रोचक कहानी

भारत में भगवन शिव के अनेक अद्भुत मंदिर है उन्हीं में से एक है हिमाचल प्रदेश के कुल्लू में स्तिथ बिजली महादेव। कुल्लू का पूरा इतिहास बिजली महादेव से जुड़ा…

अंधक राक्षस था शिव पार्वती का पुत्र जानिए कैसे हुआ था इसका जन्म ? क्यों शिवजी ने ही किया वध

एक बार भगवान शिव और माता पार्वती घूमते हुए काशी पहुंच गए। वहां पर भगवान शिव अपना मुंह पूर्व दिशा की ओर करके बैठे थे। उसी समय पार्वती ने पीछे…

Dr Ernst Muldashev ने बताया अपना कैलाश पर्वत का अनुभव। जाने क्या कहा दिव्य पर्वत पर

कभी आज सोच सकते हैं कि कैलाश पर्वत के अंदर मनुष्य रहते हो फिर उसी डॉक्टर ने दावा किया कि कैलाश पर्वत असल में मानव निर्मित पिरामिड है जहां लगातार…

पशुपतिनाथ शिव मंदिर: भूल से भी न करे यहाँ नंदी के दर्शन क्या होगा अंजाम ?

आज हम आपको संसार के एक ऐसे अद्भुत शिव मंदिर के बारे में बताएंगे जिसकी स्थापना वेदों के निर्माण की पहले की गई थी आपको जानकर यह हैरानी होगी कि…

कैसे हुआ था देवो के देव महादेव का जन्म। जाने पूरी कहानी

भगवान शिव जिन्हें सर्वोपरि और सर्वशक्तिमान कहा जाता है उनकी शक्तियों की व्याख्या हर पुराण में की गई है लेकिन फिर भी भगवान शिव के जन्म की कथा हर पुराण…

मुगलों ने कितनी बार तोडा फिर भी मंदिर आज भी वहीँ खड़ा है

श्री सोमनाथ के इस वैभव सम्पन्न पवित्र स्थान पर मुग़लो के अनेक हमले हुए कहा जाता है कि यह मंदिर ईसा पूर्व में भी अवस्थित था सोमनाथ मंदिर दक्षिण भारत…

यह ‘ॐ’ ब्रह्माण्ड को खत्म करने की क्षमता है। ऐसे रहस्य जिनसे वैज्ञानिक हैरान हैं

ॐ एक ऐसा रहस्य मय शब्द जिसे हिंदू धर्म का सबसे पवित्र शब्द कहा जाता है एक ऐसा शब्द जो हमारी आत्मा को परमात्मा से जुड़ सकता है एक ऐसा…

अमरनाथ शिव का प्रिय स्थान की कहानी जाने

केदारनाथ से आगे है अमरनाथ और उससे आगे है कैलाश पर्वत। कैलाश पर्वत शिवजी का मुख्‍य समाधिस्थ होने का स्थान है तो केदारनाथ विश्राम भवन। हिमालय का कण-कण शिव-शंकर का…

मिल ही गया समुद्र मंथन का पर्वत आज भी मौजूद है यहाँ

हिमालय की वादी को देवताओं और भगवानों का निवास स्थान कहा जाता है आकाश छूती पर्वत श्रंखला उनको इतिहास की अहम कड़ी और इंसानी सभ्यता का संभवत सबसे मुख्य भाग…